राजस्थानी चूरमा गुजिया । Gujiya recipe without mawa

राजस्थानी चूरमा गुजिया बिना मावा के बनाएं और इस होली के लिये खास गुजिया बना कर परिवार के सभी लोगों को इसके स्वाद से रुबरु कराएं.

आवश्यक सामग्री - Ingredients for Gujiya recipe without mawa

मैदा - 2 कप (250 ग्राम)

घी - 1/4 कप (50 ग्राम)

गेहूं का आटा - 1/3 कप (50 ग्राम)

बेसन - 1/3 कप (40 ग्राम)

चीनी पाउडर - 3/4 कप (100 ग्राम)

चीनी - 2 कप (400 ग्राम) (चाशनी बनाने के लिए)

नारियल - 1/4 कप (कद्दूकस किया हुआ)

काजू - 1/4 कप (बारीक कटे हुए)

बादाम - 1/4 कप (बारीक कटे हुए)

इलायची पाउडर - 1 छोटी चम्मच

दूध - 1/4 कप

केसर धागे - 25-30

तेल - तलने के लिए

विधि - How to make Gujiya recipe without mawa

किसी बड़े प्याले में मैदा निकाल लीजिए. मैदा में 3 चम्मच घी डालकर अच्छी तरह मिला लीजिये और थोड़ा-थोड़ा हल्का गरम पानी डालते हुये, पूरी के जैसा सख्त आटा लगाकर तैयार कर लीजिये. इतना आटा लगाने में 1/2 कप से थोड़ा सा ज्यादा पानी लगा है. आटे को ढककर आधे घंटे  के लिये रख दिजिये, आटा फूल कर सैट हो जायेगा. जब तक आटा सैट होता है तब तक स्टफिंग बनाकर तैयार कर लीजिये.

चूरमा बनाएं

प्याले में गेहूं और बेसन निकाल कर इसमें 1 टेबल स्पून घी डाल कर मिक्स कीजिए. अब थोड़ा-थोड़ा दूध डालते हुए सख्त आटा लगा कर तैयार कर लीजिए. इतना आटा लगाने में 1/4 कप दूध का यूज हुआ है.

गूंथे हुये आटे से लोई बनाएं, लोई को हाथ से गोल करें और चकले पर रख कर परांठे जैसा मोटा बेल लीजिए.

तवे को गैस पर रख कर गरम कीजिए, गरम तवे पर थोड़ा सा घी डाल कर तवे को चिकना कर लीजिए. अब बेले हुए परांठे को तवे पर डाल दीजिए.  इस परांठे को धीमी मध्यम आंच पर दोनों ओर से गोल्डन ब्राउन होने तक सेक लीजिए. परांठे के नीचे से सिक जाने पर इसे पलट दीजिए और दूसरी साइड से भी चित्ती आने तक सेक लीजिए. परांठे के ऊपर सतह पर थोड़ा सा घी लगाकर चारों तरफ फैला दीजिए और परांठे को पलट दीजिए. परांठे के इस ओर भी घी लगा दीजिए और परांठे को पलटे से हल्का सा दबाव देते हुए दोनों तरफ गोल्डन चित्ती आने तक सेक लीजिए.

सिके हुए परांठे को तवे से उतारकर प्याले में निकाल लीजिए और तोड़ लीजिए. परांठे के ठंडा होने के बाद इसे मिक्सर जार में डाल कर बारीक पीस लीजिए.

पैन में 1 टेबल स्पून घी डाल दीजिए और इसमें पीसा हुआ परांठे का मिक्सर डाल दीजिए और लगातार चलाते हुए मध्यम आंच पर भून लीजिए. मिश्रण का हल्का सा कलर बदलने पर और इसमें से अच्छी से खूश्बू आने पर मिश्रण भून कर तैयार है, गैस बंद कर दीजिए. मिश्रण को प्याले में निकाल लीजिए. अब इसमें पाउडर चीनी, कद्दूकस किया हुआ नारियल, कटे हुए काजू-बादाम, इलायची पाउडर डाल कर सभी चीजों को अच्छे से मिक्स कर लीजिए. चूरमा बन कर तैयार है.

गुजिया बनाइये

गुजिया बनाने के लिए आटा सैट होकर तैयार है. आटे को थोड़ा सा मसल लीजिए और आटे से लोइयां तोड़कर तैयार कर लीजिए. फिर, लोइयों को मसल कर पेड़े जैसा बना लीजिये, लोइयों को ढक दीजिए जिससे ये सूखे नही. इसके बाद, एक लोई उठाइए और गोल करके चकले पर रखिए. इसे किनारे पर दबाव देते हुए एकसार पूरी बेल लीजिए. यह कही से मोटी या पतली नही रहनी चाहिए.

पूरी उठाइये और हाथ पर इस तरह रख लीजिये, कि वह चारों ओर से उठी हुई लगे और बीच में गड्डा दिखे, बीच में 2 से ढाई चम्मच स्टफिंग रखिये, और चारों किनारों पर उंगली से पानी लगा लीजिये और गुजिया को अर्ध चन्द्राकार आकार में दोंनों किनारे मिलाते हुये, दिखाये गये तरीके से चिपकाते हुये बन्द कर दीजिये. गुजिया को गोंठिये, गूठने का तरीका आप वीडियो से देख सकते हैं. सारी गुजिया बेलकर, भर कर गूंठ कर तैयार कर लीजिये.

गोंठी हुई गुजिया को कपड़े पर रखकर, कपड़े से ही ढक दीजिए ताकि यह सूखे ना. इसी प्रकार सारी गुजिया को बेलकर, भरकर गोंठकर तैयारकर कपड़े में ढककर रख लीजिए. इन गुजिया को आधे घंटे के लिए ऎसे ही रहने दीजिए. तब तक चाशनी बना कर तैयार कर लीजिए.

Gujiya Churma

चाशनी बनाएं

एक बर्तन में चीनी और 1.5 कप पानी डाल दीजिए और चीनी के घुलने तक चाशनी को पका लीजिए. चाशनी को बीच-बीच में चमचे से चलाते रहिए. चीनी के पानी में घुलने के बाद, चाशनी में केसर के धागे डाल दीजिए. चाशनी को और 2-3 मिनिट पका लीजिए. चाशनी चैक कीजिए, चाशनी को चमचे में लीजिए और इसे हल्का सा ठंडा होने के बाद उंगली और अंगूठे के बीच चिपकाकर देखिए, चाशनी शहद की तरह चिपकनी चाहिए. इसमें तार बनने की ज़रूरत नही है. चाशनी तैयार होते ही, चाशनी को उतारकर जाली स्टेन्ड पर रखकर ढक दीजिए ताकि यह जल्दी से ठंडी ना हो जाए.

गुजिया तल लीजिये

कढ़ाई में घी डालकर गरम कीजिये, घी हल्का गरम होने के बाद जितनी गुजिया घी में आ जाय उतनी डाल दीजिये, और धीमी मध्यम गैस पर, गुजिया को पलट पलट कर दोंनो और गोल्डन ब्राउन होने तक तल लीजिये,  तली हूई गुजिया प्लेट पर नैपकिन बिछा कर उसमें रख लीजिये, एक बार की गुजिया तलने में 15-16 मिनिट लग जाते हैं. तली हुई गुजिया को चाशनी में डाल दीजिए और 3 से 4 मिनिट चाशनी में ही डूबे रहने दीजिए. 4 मिनिट बाद, गुजिया को एक प्लेट में निकाल लीजिए. बाकी गुजिया को तलने के बाद, इन्हें चाशनी में इसी तरह डुबाकर प्लेट में रखते जाइए.

कुछ गुजिया को आप बिना चाशनी में डुबाए ऎसे ही रहने दीजिए. जो लोग कम मीठा खाना पसंद करते हैं उनको भी बहुत पसंद आएंगी.

स्वाद से भरपूर  राजस्थानी चूरमा गुजिया को आप जब चाहें बनाएं और इसके स्वाद का मजा लीजिए. 

सुझाव

ड्राय फ्रूट अपनी पसंद अनुसार कोई भी ले सकते हैं.

केसर के बिना भी इसे बना सकते हैं.

गुजिया के लिए और स्टफिंग के लिए आटा थोड़ा सख्त लगाएं, आटा नरम नही होना चाहिए.

गुजिया भरते समय ध्यान रखें कि ये आपकी उंगली या नाखून से कही से भी फटे ना.

गुजिया को धीमी आंच पर तलें और जब तलने के लिए डालें तो ध्यान रखें कि घी बहुत कम गरम हो.

 

Gujiya recipe without mawa | राजस्थानी चूरमा गुजिया - मावा के बिना बनी होली के लिये खास गुजिया

Tags

Categories

Please rate this recipe:

5.00 Ratings. (Rated by 1 people)