ग्वारपाठा की सब्जी - Aloe Vera subzi - Gwarpatha Ki Subzi


ग्वारपाठा पेट की बीमारियों के लिये और जोड़ों के दर्द के लिये बहुत फायदेमन्द है ही, ये शरीर में प्रतिरोधक शक्ति भी बढ़ाता है. इससे हम लड्डू, हलवा तो बना ही सकते हैं लेकिन अभी प्रस्तुत है एलोवेरा सब्जी.

Read - Aloe Vera subzi - Gwarpatha Ki Subzi In English

आवश्यक सामग्री - Ingredients for Aloevera Subzi

  • एलोवीरा - 2 पत्तियां
  • हींग - 1 पिंच
  • जीरा - 1/2 छोटी चम्मच
  • तेल - 1-2 टेबल स्पून
  • हल्दी - 1/2 छोटी चम्मच
  • धनिया पाउडर - 1 छोटी चम्मच
  • अमचूर - 1/2 छोटी चम्मच
  • नमक - 1 छोटी चम्मच या स्वादानुसार
  • हरी मिर्च - 1 बारीक कटी हुई

विधि - How to make Gwarpatha Sabji

एलोवीरा को धोकर इसके दोंनो ओर से काटें काट कर हटा दीजिये, और अब इसके छोटे छोटे टुकड़े काट लीजिये.

एक बर्तन में 2 कप पानी डालकर उबलने के लिए रख दीजिए. पानी में ½ छोटी चम्मच नमक और थोडी़ सी हल्दी डाल दीजिए. पानी में उबाल आने पर इसमें एलोवीरा के टुकडे़ डाल दीजिए और 6-7 मिनिट के लिए उबलने दीजिये.

गैस बंद कर दीजिए और टुकड़ों को पानी से निकाल लीजिए. अब इन टुकड़ों को दो बार पानी से धो लीजिए (ऎसा करने से एलोवेरा का कड़वापन कम हो जाता है).

पैन में तेल डालकर गरम कर लीजिए, तेल गर्म होने पर इसमें जीरा, हींग, हल्दी पाउडर, धनिया पाउडर और हरी मिर्च डालकर मसाले को धीमी आंच पर थोडा़ सा भून लीजिए. मसाले में एलोवीरा के टुकडे़ डालकर इसमें नमक, सौंफ पाउडर और अमचूर डाल दीजिए और लगातार चलाते हुए 3-4 मिनिट के लिए पका लीजिए.

सब्जी बनकर तैयार है, इसे किसी प्लेट में निकाल कर हरे धनिए के साथ गार्निश कीजिए, एलोवेरा सब्जी़ को आप फ्रिज में रखकर 4-5 दिन तक खा सकते हैं.

सुझाव: ये सब्जी साधारण सब्जी नहीं है, ये मेडिशनल सब्जी है, इसे खाने के साथ 4-5 टुकड़े यानि कि कम मात्रा में खाया जाता है, एलोवीरा को प्रिगनेन्ट महिला को न खिलायें, ये उनको नुकसान कर सकता है.
समय - 20 मिनट

Aloe Vera subzi - Gwarpatha Ki Subzi

Tags

Categories

Please rate this recipe:

3.02 Ratings. (Rated by 3963 people)

  1. 16 December, 2017 09:07:24 AM Sanjay Sharma

    मैडम, बताया जाता है कि एलोवेरा दो तरह का होता है एक औषधि वाला दूसरा मीठा... इस सब्जी में कौनसा वाला एलोवेरा काम में लेते हैं

  2. 31 October, 2017 07:36:47 PM balwinder

    mam kiya isme onions aur lahusan vagera dal sakte hai??
    निशा: बलविंदर जी, बहुत बहुत धन्यवाद.

  3. 25 October, 2017 11:18:28 PM Ramdayal jat

    नमक हल्दी वाले पानी का क्या करना है क्या इसमें पानी नहीं डाला जाता है
    निशा: रामदयाल जी, पानी को हटा देना है इसे हमने सूखा ही बनाया है.

  4. 09 June, 2017 08:12:58 PM Jyotimeghwal

    Kya yh sbji dibitices me bhi gunkari hai plz fayde bhaye
    निशा: ज्योती जी, ग्वारपाठा पेट की बीमारियों के लिये और जोड़ों के दर्द के लिये बहुत फायदेमन्द है ही, ये शरीर में प्रतिरोधक शक्ति भी बढ़ाती है, और ये डायबेटिक लोंगों के लिये भी फायदेमन्द है.

  5. 27 April, 2017 10:26:30 PM सुरेन्द्र

    1. कृपया बतावें, क्या ग्वार पाठा मीठा और खारा (कड़वा) अलग अलग किस्म के होते हैं, या थोडा खारापन सब में ही होता है?2. आपके बहुत स्पष्टता से दिए गए रुचिप्रद व्यंजन विधियों के लिए आपको साधुवाद, कृपया ग्वार पाठा के अचार पर कुछ विशेष प्रकाश डालने की कृपा करें
    निशा: सुरेन्द्र जी, ग्वार पाठा में खारापन तो होता ही है लेकिन कुछ प्रजातियां अधिक खारी होती हैं. आपको भी बहुत बहुत धन्यवाद.

  6. 02 April, 2017 08:51:18 PM نور محممد

    एलोविरा की तो कई किस्म हैंकिस किस्म का एलोविरा को चुनें
    निशा: हल्के रंग और चौड़ी पत्तियों वाला एलोवीरा अच्छा होता है.

  7. 23 March, 2017 04:53:29 PM sunil garg

    esko chilke sahit pakana hai ya chilka utar ker
    निशा: सुनील जी, एलोवीरा को धोकर इसके दोंनो ओर से काटें काट कर हटा दीजिये, पूरा छिलका हटाने की जरूरत नही है.

  8. 10 February, 2017 11:58:00 PM Raj Bansh Chaubey

    Please tell me whether most of the medicinal and nutritional value of the Aloe Vera would not be lost in boiling the Aloe Vera pieces with salt turmeric powder?
    निशा: राज बंश जी, थोड़ी न्यूट्रीशनल वेल्यू तो कम हो सकती है, उसे प्रोपर तरीके से पकायें, कुछ न्यूट्रीशनल वेल्यू एड भी जाती हैं, हम सारी हरी सब्जियों को पका कर ही खाते हैं

  9. 06 January, 2017 03:01:03 AM kuldeep

    kya Iski smell sach m bekar hoti h?
    निशा: कुलदीप जी, इसमें हल्की सी महक होती ही है.

  10. 01 January, 2017 03:00:38 AM Guptas

    Lovely receipe.Can we add garlic and onion in sabzi?
    निशा: गुप्ता जी, धन्यवाद. आप अपने स्वादानुसार रेसिपी में बदलाव कर सकते हैं.