sitelogo
Horoscope English Q and A

सिघाड़े की मीठी कतली

singhada katli

शिव रात्री के व्रत के अवसर पर सिघाड़े की मीठी कतली बनाकर खायी जाती है. यह कतली बड़ी स्वादिष्ट होती है, आइये शिवरात्री पर सिघाड़े के आटे की मीठी कतली बनायें.

आवश्यक सामग्री - Ingredients for singhada katli

  • सिघाड़े आटा - 100 ग्राम
  • घी - एक टेबल स्पून
  • चीनी - 100 ग्राम
  • इलाइची - 4 (छील कर कूट लीजिये)

विधि - How to make Singhada Katli

कढाई में घी डाल कर गरम कीजिये.  घी में सिघाड़े का आटा डाल कर हल्का गुलाबी होने तक भूनिये.

भुने हुये आटे में तीन गुना पानी और चीनी मिलाकर चमचे से चलाते जाइये.  उबाल आने के बाद 4-5 मिनिट तक पकाइये. सिघाड़े का गाड़ा हलुआ जैसा बन जायेगा.
singhada_katli2_850465862.jpg
एक थाली में घी लगा कर चिकना कीजिये, और सिघारे के हलुवा को थाली में डालकर पतला (आधा इंच की मोटाई में) फैला कर जमा दीजिये.

ठंडा होने पर चाकू से अपने मनपसन्द आकार में काट लीजिये. कतलियों को प्लेट में रखिये और ब्रत के खाने में खाइये.

recipe

इस रेसिपी के बारे में सवाल पूछिए.

क्या आपके मन में इस रेसिपी से जुडा़ कोई सवाल है? आप Nishamadhulika.com पर आने वाले लोगों से उसे पूछ सकते हैं : यहाँ क्लिक करें.

Leave a Reply

Khushi on 06 March, 2008 06:09:27 AM

inhe kitne din tak rakha ja sakta hai.

निशा मधुलिका on 06 March, 2008 07:21:16 AM

खुशी जी, यह कतलियां व्रत के समय खाने के लिये हैं, रखने के लिये नहीं. हां यदि बच जाय तो फ्रिज में रख दीजिये. दूसरे दिन खाई जा सकती हैं.

Rewa on 26 August, 2009 05:41:44 AM

i prepare it during fasting days.it's very tasty.the only difference is that i add raisins &grated coconut in the mixture &on getting set i garnish it with grated coconut
want to have receipe of garlic &whole red chillies-typically rajasthani style can i? thanks

Monika on 20 September, 2009 23:13:49 PM

Hi mam, my katliya did not turn out very good. They were almost like halwa and nothing like katli.

The one you prepared looks really nice and dry but mine were no where close to yours.

Thanks.
निशा: मोनिका, हलवा की स्टेज कतली बनने से पहले की स्टेज है उसी हलवे को चमचे से चला चला कर और पकाना है, थोड़ा और गाड़ा होने पर थाली में घी लगाकर जमा देना हैं.

Kaveri on 30 May, 2010 02:23:10 AM

Hi nishaji my mom use to prepare this katly in janmasthmi.today I remember my mom too much.thank you for this receipe

Sg on 30 June, 2010 08:30:50 AM

Nishaji, kya shakkar ki jagah gud use kar sakte hain, jisse ye aur healthy ban jaye?
निशा: जी हां आप गुड़ पसन्द करते हैं तो गुड़ ही डाल कर बनाइये.

Jyoti on 15 July, 2010 08:00:47 AM

nisha ji, bahut acchi bani thanks a lot.

Anju on 08 October, 2010 12:01:33 PM

main to soch rahi thi ki sirf bazar se hi mithai milegi vrato ki laekin aaj to main 3-3 tarha ki or asani se banane wali or swadisht to main khane ke bad hi batasakti ho .thanks

Kaveri on 03 April, 2011 17:17:22 PM

Hi nishaji thanks for this receipe .aapne toh mujhe meri mummy ki yaad diladiya.once again thanks a lot.take care

Ratna on 25 August, 2011 18:05:22 PM

Hi, mam mujhe singhade ke aate ka halwa bahut pasand hai par jab bhi banati hu guthliya pad jati hai kya karu?

Jyotsna on 10 December, 2013 06:28:17 AM

madhu ji singhade ke aate ke sath yadi suji aur pani ki jagah milk add kiya jaye to kya katli thik banegi ?
निशा: ज्योत्स्ना जी हां सूजी की कतली भी इसी तरह बन कर तैयार हो जायेंगी.

Abha on 25 February, 2014 00:38:13 AM

nishaji...kya kuttu k atte se b katli isi tarah banegi...........plssssssssssss telll me....
निशा: आभा, कतली सिघाड़े के आटे की ही बनाई जाती है, कूटू के आटे की पकोड़ी अच्छी बनती है,

Ramsharma on 03 April, 2014 03:50:16 AM

निशा जी आप के द्वारा बताई विधि से सिंघाड़े की कतली बहुत स्वादिस्ट बनी है। क्या तजा सिंघाड़े को grind कर के भी कतली बना सकते हैं?
निशा: रामशर्मा जी, ये कतलियां सिघाड़े के आटे से ही बनाई जाती हैं.

Vaishali chavan on 11 July, 2014 02:49:26 AM

Namaste nishaji, kya kuttu ka atta aur singhade ka atta alag alad hota hai??
निशा: वैशाली जी हाँ ये दोंनो अलग अलग आटे हैं.

Click here to log in

Become a member free and get access to advanced features.

Latest Recipes

More Recipes
इस ब्लाग की फोटो सहित समस्त सामग्री कापीराइटेड है जिसका बिना लिखित अनुमति किसी भी वेबसाईट, पुस्तक, समाचार पत्र, सॉफ्टवेयर या अन्य किसी माध्यम से प्रकाशित या वितरण करना मना है.