sitelogo
Horoscope English Q and A

कमल ककड़ी का अचार Lotus Stem Pickle Recipe

Lotus Stem Pickle Recipe

Lotus Stem Pickle Recipe

कमल ककड़ी को तल कर हम चिप्स और सब्जी तो बनाते हैं ही लेकिन इसका अचार भी बहुत अच्छा होता है. आईये आज कमल ककड़ी का अचार बनायें.

Read this post in English - Lotus Stem Pickle Recipe

आवश्यक सामग्री - Ingredients for Lotus Stem Pickle Recipe

  • कमल ककडी - 2 (300 ग्राम)
  • सरसों का तेल - 1/2 कप
  • सिरका - 2 से 3 टेबल स्पून
  • हींग - 2 से 3 पिंच
  • पीली सरसों का पाउडर - 2 टेबल स्पून
  • कलौंजी - 1/2 छोटी चम्मच
  • अजवायन - 1/2 छोटी चम्मच
  • नमक - 2 छोटी चम्मच
  • लाल मिर्च पाउडर - 1 छोटी चम्मच
  • हल्दी पाउडर - 1 छोटी चम्मच
  • सौंफ पाउडर - 2 छोटी चम्मच

विधि - How to make Lotus Stem Pickle

कमल ककड़ी को अच्छी तरह से धो लीजिये, छीलिये और दोनों तरफ के डंठल काटकर हटा दीजिए. कमलककड़ी को गोल/ ओवल काट लीजिए. 

कमलककड़ी को ब्लांच कीजिए

एक भगोनी में 3 से 4 कप पानी भरकर उबालिये.  पानी को ढक दीजिए ताकि इसमें जल्दी से उबाल आ जाए. जब पानी खोलने लगे तो इसमें कमल ककड़ी के टुकड़े डाल दीजिये और लगभग 5 से 6 मिनट उबलने दीजिये. ध्यान रखें कि टुकड़े हल्के नरम भर हों एकदम गलें नहीं.

6 मिनिट बाद, कमलककड़ी के टुकड़ों को छलनी में निकाल लीजिये और इसके बाद, इन्हें एक प्याले में ठंडे पानी में डालकर 1 मिनिट रखिए जिससे टुकड़े जल्दी ठंडे हो जाए. कमलककड़ी के टुकड़ों को पानी से निकालकर सूती कपड़े पर डाल दीजिए ताकि इनका अतिरिक्त पानी कपड़ा सोख ले. इन्हें कपड़े से दबाकर अच्छे से पौंछ लीजिए.

अचार बनाइए

पैन में तेल डालकर अच्छे से गरम कीजिए. तेल के गरम होते ही इसमें अजवायन, कलौंजी और हींग डाल दीजिए तथा थोड़ा सा मसाले को भुनने दीजिए. इसके बाद, पैन में कमलककड़ी के टुकड़े भी डाल दीजिए. गैस बंद कर दीजिए और टुकड़ों के ऊपर हल्दी पाउडर,  सौंफ पाउडर, नमक, लाल मिर्च पाउडर और पीली सरसों पाउडर डाल दीजिए. इन्हें अच्छी तरह से मिक्स कर लीजिए ताकि सारे मसाले कमलककड़ी के टुकड़ों पर कोट हो जाएं.  अचार तैयार है, इसे ठंडा होने दीजिए.

अचार के ठंडा होने के बाद, इसमें सिरका डालकर मिला दीजिए. इसे एक प्याले में निकाल लीजिए. 

कमल ककड़ी का मज़ेदार अचार तैयार है, लेकिन 4 दिन बाद यह अचार एकदम खट्टा और बेहतर स्वाद का लगेगा.  कमल ककड़ी के अचार को कांच या चीनी मिट्टी के बरतन में भर कर रख दीजिये.  चार दिनों तक दिन में एक बार चमचे से अचार को ऊपर नीचे कर दीजिए ताकि अचार में सारे मसाले एक जैसे मिल जाएं. इस अचार को एक महीने तक रखकर खाया जा सकता है.  अधिक दिन तक अचार को चलाने के लिये अचार को तेल में डुबा कर रखिये.

सुझाव

  • आप चिप्स से पानी सुखाने के लिए इनको छलनी में डालकर 1 घंटे के लिए धूप में भी रख सकते हैं. 
  • जिस भी कन्टेनर में आप अचार भरकर रखना चाहते हैं, उस कन्टेनर को उबलते हुए पानी से धो लीजिए और धूप या ओवन में अच्छे से सुखा लीजिए. अचार को निकालने के लिए गीली चम्मच का इस्तेमाल ना करे और ना ही गीले हाथों से निकाले. 

Kamal Kakdi Pickle Video in Hindi

Please rate this recipe:

3.35 Ratings.

recipe

इस रेसिपी के बारे में सवाल पूछिए.

क्या आपके मन में इस रेसिपी से जुडा़ कोई सवाल है? आप Nishamadhulika.com पर आने वाले लोगों से उसे पूछ सकते हैं : यहाँ क्लिक करें.

Comments (12)

Advocate rashmi saurana on 26 June, 2008 03:06:23 AM

are vha.nai chij ko sikhane ke liye aabhar.

Meenakshi on 01 September, 2009 09:27:47 AM

hello mam i have tried ur no. of recpies and they have really come out very well. mam i will appreciate if u could also teach us wheat flour(atta) momos and atta pizza dough recpie .
thanks
god bless u as u are imparting ur culinary skill with us.

Geetu on 15 December, 2009 04:30:08 AM

HI! NISHA JI KYA AAP HAME KAMAL KAKDHI KI SABJI BNANA BTA SAKTI HA.

Balvinder kaur on 21 February, 2010 06:02:31 AM

apki site par kar khushi hui, isme har recepie asani se mil jati hai jo banane mein asan hai or time vi kam leti hai.

Thanks

Darshan kumar gupta on 12 March, 2010 20:45:32 PM

Dear Sir
Kamal Kakadi is very tasty

Vijay on 03 September, 2010 19:14:36 PM

NISHA JE KOI BHI ACHAR DALNE PAR CHAE WO GOBHI HO YA KAMAL KAKRI, PANI BAHUT CHOR DETA HAI ,JAB KE ACHAR DALNE SE PAHLE INKO SUKHAYA GAYA. IS KO DOOR KARNE KA KYA TARIKA HI. KYA IS SE ACHAR JALDI KHARAB NAHI HO JAEGA, THANKS.

Renu on 25 November, 2011 12:34:39 PM

Madam let me know ki kamal kakdi ke achar main methi dana bhi dalta hai ya nahi, kayonki sabhi achar main methi dana {methre} dale jate hain, aapne kamal kakdi ke achar main methi dana nahi batya, please clarify.

Chandra on 08 September, 2012 14:20:06 PM

Nisha Madhulikaji,

Namaste. Thank you for posting such mouthwatering variety of jain recipes on line. I eat satwik food and find a good number of recipes and delicious sweets on your web site. I tried many of these and they come out very well and tasty.
Thanks and regards
chandra
निशा: चंद्रा, बहुत बहुत धन्यवाद.

Meeta chaurey on 07 June, 2013 05:24:09 AM

HI NSHA , I MADE ACHAR OF KAMAL KAKADI BY YOUR IDEA. VERY VERY TASTY IT IS. THANKS A LOT
निशा: मीता, आपको भी मेरा बहुत बहुत धन्यवाद.

Raj kumar yadav on 11 June, 2014 09:31:28 AM

Hamare yaha to iski sabji jyada banti hai jo bahut tasty hoti hai
achar bhi bana ke dhekhenge .
tnx nisa ji

Robin on 14 July, 2016 03:53:47 AM

Ye achaar kitne samay tak chal sakta hai

निशा: रोबिन जी, 1 माह तक इसे आप उपयोग कर सकते हैं अधिक दिन अचार को चलानेके लिये अचार को तेल में डुबा कर रखने पर ये और भी अधिक दिनों तक सही रहता है.

Yonish chandra on 02 September, 2016 03:20:01 AM

Kamal kakdi ka achar kitne din tak kharab nahi hota hai?

निशा: योनिश जी, 1 माह तक इसे आप उपयोग कर सकते हैं अधिक दिन अचार को चलाने के लिये अचार को तेल में डुबा कर रखने पर ये और भी अधिक दिनों तक सही रहता है.

Click here to log in

Become a member free and get access to advanced features.

Latest Recipes

More Recipes
इस ब्लाग की फोटो सहित समस्त सामग्री कापीराइटेड है जिसका बिना लिखित अनुमति किसी भी वेबसाईट, पुस्तक, समाचार पत्र, सॉफ्टवेयर या अन्य किसी माध्यम से प्रकाशित या वितरण करना मना है.