sitelogo
Horoscope English Q and A

लच्छेदार रबड़ी - Rabri Recipe - लच्छेदार खुरचन वाली रबड़ी - Lacchedar Khurchan wali Rabdi - HOLI RECIPE

Lacchedar Khurchan wali Rabdi

बहुत ही कम सामग्री से बनने वाली उत्तरी भारत के पारंपरिक पकवानों में शामिल लच्छेदार रबड़ी किसी भी विशेष अवसर को और भी खास बना दें.

Read - Rabri Recipe - Lacchedar Khurchan wali Rabdi Recipe In English

आवश्यक सामग्री - Ingredients for Lacchedar Khurchan wali Rabdi

  • फुल क्रीम दूध- 1.5 लीटर
  • पिस्ते- 10 से 12
  • बादाम- 4 से 5
  • इलाइची पाउडर- ½ छोटी चम्मच
  • चीनी- 2.5 टेबल स्पून

विधि - How to make Rabri

कढ़ाही में दूध लेकर इसे उबाल आने तक गरम कीजिए. दूध को प्रत्येक 2 मिनिट में चमचे को कढ़ाही के तले तक ले जाते हुए चलाते रहिए ताकि दूध कढ़ाही के तले पर ना लगे.

दूध में उबाल आने के बाद, दूध को तेज आंच पर चलाते हुए ¾ यानिकि 1 लीटर रह जाने तक गाढ़ा होने दीजिए. यदि दूध उफनने लगे, तो तुरंत गैस कम कर दीजिए और फिर, तेज कर दीजिए. दूध को गाढ़ा करते समय प्रत्येक 2 से 3 मिनिट में दूध को चमचे से चलाते रहिए.

इसी बीच, पिस्तों को बारीक काटकर तैयार कर लीजिए. बादाम को भी पतला-पतला काट लीजिए. इस दौरान दूध पर भी पूरी नजर बनाएं रखे कि दूध उफने भी न और तले पर भी नही लगे. 

दूध के गाढ़ा होते ही, आंच मध्यम कर दीजिए और दूध के ऊपर जो मलाई आ रही हो, उसे किनारे पर लगा दीजिए. इसे नीचे से भी कभी-कभी चमचे से चला लीजिए और जैसे-जैसे दूध पर मलाई आती जाए, वैसे-वैसे मलाई किनारे पर लगाते जाइए. कढ़ाही में सिर्फ 250 मिली दूध बचना चाहिए. तब तक, यही प्रक्रिया दोहराते रहिए. दूध पर मलाई की परत पड़ते ही मलाई को कढ़ाही के किनारे चिपका दीजिए.

कढ़ाही में जब करीब 250 से 300 मिली गाढ़ा दूध बचे, तब इसमें इलाइच़ी पाउडर डालकर मिला दीजिए. साथ ही चीनी भी डाल दीजिए और चीनी के घुलने तक इसे पकने दीजिए. चीनी के दूध में घुलते ही गैस बंद कर दीजिए और रबड़ी को थोड़ा ठंडा होने दीजिए.

रबड़ी के ठंडा होने के बाद, कढ़ाही से मलाई वाले लच्छों को खुरचकर गाढ़े दूध में मिक्स कर दीजिए. सारे मलाई के लच्छों के दूध में मिक्स होते ही रबड़ी तैयार है. इसे प्याले में निकाल लीजिए.

लच्छेदार रबड़ी को कटे हुए पिस्ते और बादाम से गार्निश करके सर्व कीजिए और इसके लच्छे के फीके और मिठास से भरे गाढ़े दूध के मिले जुले स्वाद का अनुभव कीजिए.

सुझाव

  • दूध को चलाते समय पूरा ध्यान रखें कि चमचे को कढ़ाही के तले पर ले जाते हुए चलाएं. दूध बिल्कुल भी कढ़ाही के तले पर लगना नही चाहिए. 
  • मलाई की परत पड़ने के लिए दूध को नीचे से गरम होना चाहिए और ऊपर से कम गरम. इसलिए आग को मध्यम रखे. 
  • परंपरागत रूप से रबड़ी में मेवे नही डाले जाते. पर आप चाहे, तो इसमें मेवे जैसे कि बादाम, पिस्ते डाल सकते हैं. 
  • बुजुर्गों या बच्चों के लिए रबड़ी में मेवे ना डालें. मेवे के बिना भी रबड़ी बहुत अच्छी लगती है क्योंकि इसमें पड़ने वाली मलाई के जो लच्छे बन जाते हैं उनका अपना एक अलग ही स्वाद होता है.

Rabri Recipe - लच्छेदार खुरचन वाली रबड़ी - Lacchedar Khurchan wali Rabdi - HOLI RECIPE

Please rate this recipe:

3.50 Ratings.

recipe

इस रेसिपी के बारे में सवाल पूछिए.

क्या आपके मन में इस रेसिपी से जुडा़ कोई सवाल है? आप Nishamadhulika.com पर आने वाले लोगों से उसे पूछ सकते हैं : यहाँ क्लिक करें.

Comments (6)

Param ojha on 11 March, 2017 05:46:50 AM

Wah mam bahut hi badiya rabri dikh rahi hai.

निशा: परम जी, बहुत बहुत धन्यवाद.

Neha gupta on 11 March, 2017 05:48:10 AM

Thank you for such a nice recipe. I always try your recipe.

निशा: नेहा जी, हमारी रेसिपीज़ पसंद करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद.

Lalita sharma on 12 March, 2017 09:37:36 AM

Thanks mam for this recipe, Aapki recipe muje bhut achi lagti h

निशा: ललिता जी, आपको भी मेरी ओर से बहुत बहुत धन्यवाद.

Shalini kumar on 12 March, 2017 22:57:30 PM

Happy Holi nisha mam

निशा: शालिनी जी, धन्यवाद और आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाएं

Sushila poonia on 21 March, 2017 03:20:26 AM

Thank u so much mam...i always try your recipe..

निशा: सुशीला जी, आपका बहुत बहुत धन्यवाद.

Vidyula abhijeet on 24 March, 2017 06:29:40 AM

Nisha mam, aaj to main apki fan ban gai....kitne khubsurat tarike se, wo bhi haste muskurate hue ek ek recipi banakar dikhate ho aap heartiest thankssss....

निशा: विद्युला जी, प्रशंसा के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

Click here to log in

Become a member free and get access to advanced features.

Latest Recipes

More Recipes
इस ब्लाग की फोटो सहित समस्त सामग्री कापीराइटेड है जिसका बिना लिखित अनुमति किसी भी वेबसाईट, पुस्तक, समाचार पत्र, सॉफ्टवेयर या अन्य किसी माध्यम से प्रकाशित या वितरण करना मना है.