कलौंजी । Kalonji | Black Cumin - Nigella Seeds

कलौंजी (Kalonji)  को कई नामों से जाना जाता है अंग्रेजी में स्माल फनेल,  कालाजाजी, हिन्दी में कलौंजी, मंगरैला (Mangraila), बंगाली में मुगरेला, गुजराती में कलौंजी, इसे ब्लैक आॉनियन सीड्स (Black Onion Seeds) या nigella seeds भी कहा जाता है लेकिन यह प्याज के बीज नहीं होते. इन बीजों का स्वाद हल्का कड़वा और तीखा होता है और ये सुगंध से भरे होते हैं. कलौंजी (Kalonji)  रनुनकुलेसी परिवार का पौधा है. 

Read : Kalonji  | Black Cumin in English

कलौंजी का भोजन में उपयोग
कलौंजी एक बेहद उपयोगी मसाला है. इसका प्रयोग विभिन्न व्यंजनों जैसे दालों, सब्जियों, नान, ब्रेड, केक और आचार आदि में किया जाता है. कलौंजी की सब्जी भी बनाई जाती है.  बिहारी लिट्टी में भी कलोंजी का प्रयोग किया जाता है.  आकार में यह तिल के बीज की तरह होते हैं.

कलौंजी में उपस्थित पोषक तत्व
कलौंजी पौषक तत्वों से भरा होता है इसमें वसा, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट प्रचुर मात्रा में होते हैं. इसके साथ ही इसमें कैल्शियम, पोटेशियम, लोहा, मैग्नीशियम व जिंक आदि खनिज तत्व पाए जाते हैं. कलौंजी में एंटी-आक्सीडेंट भी मौजूद होता है जो कैंसर जैसी बिमारी से बचाती है.

कलौंजी का उपयोगी तेल
कलौंजी का तेल शारीरिक क्षमता को बढ़ाता है तथा शरीर को रोगों से बचाता है. कलौंजी का तेल कफ को नष्ट करता है एवं रक्त को साफ करता है. कलौंजी के चूर्ण को नारियल के तेल में मिलाकर त्वचा पर मालिश करने से त्वचा के विकार नष्ट होते हैं और त्वचा निखरती है. इस तेल के सेवन से पेट साफ रहता है एवं जोडों के दर्द, सिर दर्द, कमर दर्द आदि में कलौंजी के तेल की मालिश करने से आराम मिलता है.

कलौंजी के औषधीय उपयोग
कलौंजी का सेवन स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है. कलौंजी का भोजन में उपयोग करने से हाजमा दुरुस्त रहता है. इसके सेवन से पेट साफ रहता है. पेट में कृमि होने पर कलौंजी का शहद के साथ नियमित रुप से सेवन करना लाभदायक होता है. हाथों और पैरों मे सूजन होने पर कलौंजी को पीसकर उसका लेप करने से हाथ-पैरों की सूजन दूर होती है. मानसिक तनाव होने पर चाय के पानी में एक चम्मच कलौंजी का तेल डाल कर लेने से तनाव से राहत मिलती है. कलौंजी दिमाग को तेज करती है और स्मरण शक्ति को बढ़ाती है.

सौंदर्य को बढ़ाती कलौंजी
कलौंजी का सेवन स्वास्थ्य के साथ-साथ सुंदरता को भी बढ़ाता है. कलौंजी का तेल लोशन, क्रीम और ब्युटी आँयल आदि बनाने में भी प्रयोग होता है. चहरे को सुन्दर व आकर्षक बनाने के लिए कलौंजी के तेल में थोड़ा सा जैतुन का तेल मिलाकर चेहरे पर लगाएं और थोड़ी देर बाद चेहरा धो लें. इससे चेहरे के दाग़-धब्बे दूर होते हैं. बालों की समस्या जैसे बालों का झड़ना एवं रुसी में कलौंजी तेल की मालिश फायदेमंद होती है.

Tags

Categories

Please rate this recipe:

2.73 Ratings. (Rated by 8169 people)

  1. 17 February, 2018 05:16:03 PM

    Mere hair jhadte hut h aur rusi bhi h to kalonji ke upyog se thik ho jyega

  2. 06 January, 2018 05:20:26 AM SHAMSUL WARIS

    क्या कलोंगी का पाउडर बना के दूध में मिलाकर पी सकते हैं

  3. 27 December, 2017 12:12:05 AM Aditya Singh Oberoy

    Miss. ye Hair Problem Ke Liye Kaise Useful Hai tel Me Mam..

  4. 23 December, 2017 05:05:55 PM Sudarshan

    इसे हमलोग मंगरैला के नाम से जानते हैं,जहां तक मुझे मालूम है कि बिहार के लोग इसे मंगरैला के नाम से हीं जानते हैं और इसका उपयोग पकोड़े,लिट्टी,कचौड़ी आदि में किया जाता है

  5. 14 December, 2017 07:29:34 AM Nizam

    Mem meko hair full Ka problem hi kuch jayda ho rha hi.isko kise laga na. Replay plzz

  6. 13 December, 2017 07:23:37 PM Prakash j Lunagariya

    Kalonji kounsi store se mil Sakari he?.
    निशा: प्रकाश जी, ये आपको किसी भी किराना स्टोर या बड़े ग्रोसरी स्टोर से उपलब्ध हो जाएगी.

  7. 05 December, 2017 10:40:41 PM Sahamtullah ansari

    कलौंजी के बीज से क्या क्या फायदे होते हैं इसका नुकसान बताएं

  8. 30 November, 2017 02:48:56 AM Forum

    is that takhmariya in Gujarati please inform me.?
    निशा: फोरम जी, कलोंजी और तुकमारिया अलग अलग होते हैं.

  9. 24 November, 2017 09:56:16 AM Rutika

    Marathi me kya kaha jata hai..plz

  10. 13 November, 2017 08:14:53 AM dipankar borah

    Kala Jira ko hi kalonji kehte hai kya.Kalonji Ka dam Kitna hai our yeah Kaha milta hai.
    निशा: दीपांकर जी, कलौजी और काला जीरा दोंनो अलग अलग होते हैं, कलोंजी काले तिल की तरह होती है जबकि काला जीरा, सादा जीरा से छोटा उसी तरह का थोड़ा डार्क कलर का होता है.