अलसी की पिन्नी – Alsi Pinni Recipe – Alsi Ladoo Recipe

image

सर्दियों के मौसम ने दस्तक दे दी है. इस मौसम में आपके परिवार को अधिक केयर की जरूरत है. अलसी (Linseeds or Flax Seeds) से बने खाद्य पदार्थ (Alsi Recipes) आपके परिवार को सर्दी जुकाम खांसी आदि से लड़ने की प्रतिरोधात्मक शक्ति देते हैं.

Benefits of Alsi Seeds- Flax Seeds
अलसी में ओमेगा-3 और ओमेगा-6 नाम के अम्ल होते हैं जो आपके शरीर के कोलोस्ट्रोल को संतुलित करते हैं. अपने पदार्थ गुण में अलसी के बीज अखरोट और बादाम को मात देते हैं लेकिन मूल्य में बहुत सस्ते.  आयुर्वेद के अनुसार अलसी के बीज (Linseed or Flax Seeds) वात, पित्त और कफ को संतुलित करते हैं

अलसी की पिन्नी (Alsi Pinni) सर्दियो में खाई जाने वाली पारम्परिक पौष्टिक मिठाई है. अलसी की पिन्नी सर्दियों में बनाकर रख लीजिये, रोजाना 1-2 अलसी की पिन्नी (Alsi Ki Pinni) खाइये, सर्दी, जुकाम, खासी, जोड़ों के दर्द सभी में फायदा पहुंचाती है., तो आइये अलसी की पिन्नी बनाना (Alsi Ladoo or Alsi Ki Barfi) शुरू करें.

Read - Alsi Pinni Recipe – Alsi Ladoo Recipe In English 

आवश्यक सामग्री - Imgredients for Alsi Ki Pinni

  • अलसी- 1 कप ( 150 ग्राम)
  • गेहूं का आटा- 1 कप (150 ग्राम)
  • चीनी- 1 कप (200 ग्राम )
  • घी- ¾ कप (200 ग्राम)
  • अखरोट- 2 टेबल स्पून
  • गोंद- 2 टेबल स्पून
  • बादाम- 2 टेबल स्पून
  • काजू- 2 टेबल स्पून
  • इलायची- 7 से 8
  • किशमिश- 1 टेबल स्पून

विधि - How to make Alsi Ki Pinni

अलसी (Linseeds or Flax Seeds) को थाली में डालकर अच्छी तरह छान बीन कर साफ कर लीजिये.
Alsi Ki Pinne Ingrediets
कढ़ाही गरम करके इसमें अलसी डालिये. अलसी को लगातार चलाते हुए भून लीजिए. (अलसी रोस्ट करते समय चटचट की आवाज करती है और भुनने पर हल्की सी फूल जाती है. भुनी अलसी को प्लेट में निकालकर ठंडा कर लीजिए और इसके बाद इसे मिक्सी में थोड़ा दरदरा पीस लीजिए. 

कढ़ाही में 1 टेबल स्पून घी डालिए और आटे को डालकर इसे लगातार चलाते हुए हल्का ब्राउन होने तक भून लीजिए. भुने आटे को किसी थाली में निकाल कर रख लीजिये.

कढ़ाही में बचा हुआ घी डालकर हल्का गरम कर लीजिए. इसमें थोड़ा थोड़ा गोंद डालकर इसे चलाते हुए फूलने तक धीमी आंच पर भून लीजिए. सारा गोंद इसी तरह तलकर निकाल लीजिये.

बादाम और काजू को बारीक काट लीजिए. इलायची को छीलकर कूटकर पाउडर बना लीजिए. 

ठंडा होने पर तले हुये गोंद को चकले पर या किसी थाली में बेलन की सहायता से दबादबा और बारीक कर लीजिये.

गोद तलने के बाद जो घी बचा हुआ है उसमें पिसी हुई अलसी को डालिये और कलछी से चला चला कर मीडियम और धीमी आग पर अच्छी महक आने तक भूनिये और थाली में निकाल लीजिये. अलसी पहले से ही भुनी हुई है, तो यह 5 मिनिट में अच्छे से भुन जाती है. 

चाशनी बनाएं

कढ़ाही में चीनी और आधा कप पानी डालिये और चाशनी बनने के लिये रखिये. चीनी घुलने तक चमचे से चलाइये और 1 तार की चाशनी तैयार कर लीजिये. चाशनी टैस्ट करने के लिये चमचे से 1 बूंद चाशनी प्याली में गिराइए और उंगली - अंगूठे के बीच चिपका कर देंखें कि जब ऊगली और अंगूठे को अलग करें तो चाशनी से 1 तार निकलना चाहिये. आग बन्द कर दीजिये.
How to make Alsi Ki Pinni
चाशनी में भुना आटा, भुनी अलसी, काटे हुये मेवे, गोंद और इलायची पाउडर डालकर अच्छी तरह मिला दीजिये.  हल्का गरम रहने पर हाथ से थोड़ा थोड़ा (एक नीबू के बराबर) मिश्रण निकालकर लड्डू बनाकर थाली में रखिये. सारे मिश्रण से लड्डू बनाकर तैयार कर लीजिये. लड्डू के ऊपर 1 काजू का टुकड़ा सजावट के लिए लगा दीजिए और प्लेट में रख लीजिए. 

अलसी की पिन्नी तैयार है. सर्दियों में रोजाना 1 अलसी की पिन्नी को खाइये और बीमारी से बचे रहिए. 

सुझाव

  • आटे को लगातार चलाते हुए भूनिए. यह कढ़ाही के तले पर लगकर जलना नही चाहिए. 
  • गोंद को तलते समय आग धीमी और मीडियम ही रखें, तेज आग पर गोंद अच्छा नहीं फूलता, ऊपर से भुनता है और अन्दर से कच्चा निकल आता है.
  • गरम मिश्रण रहते ही लड्डू बना लीजिए वरना मिश्रण बिखरने लगता है. 
  • पिसी अलसी को मीडियम और धीमी आग पर ही भूनें. तेज आग पर भूनने से जलने का खतरा है.
  • चाशनी बनाते समय ध्यान रखें कि वह सही बने, चीनी पानी में घुलने के बाद ही चाशनी का टैस्ट कीजिये और 1 तार की चाशनी बना लीजिये, चाशनी ज्यादा होने पर, वह तुरन्त जमने लगेगी और पिन्नी नहीं बन सकेगी, अगर चाशनी में तार नहीं बन रहा हो तो वह जमेगी ही नहीं और पिन्नी नरम रहेगी.
  • सूखे मेवे आप अपने पसन्द से कम ज्यादा कर सकते हैं, आपको जो मेवा पसन्द हो वह डाल सकते हैं और जो मेवा न पसन्द हो वह हटा सकते हैं.

 

 

Alsi Pinni Recipe video

Tags

Categories

Please rate this recipe:

3.64 Ratings. (Rated by 11345 people)

  1. 15 February, 2018 08:02:36 PM Sheetal Upadhyay

    Hello mam, mujhe pura process bataiye Jaggery powder se laddu banane ka plz

    • 16 February, 2018 10:00:52 PM NishaMadhulika

      शीतल जी मैं जल्द ही इस पर रेसिपी अपलोड़ करूंगी. धन्यवाद.

  2. 27 December, 2017 01:25:57 AM dheeraj

    Mam please tell ingredients in grams ..how much alsi and how much atta ..plz reply
    निशा: धीरज जी, हमने सारे इन्ग्रीडियेन्ट की मात्रा ग्राम में दे दी है, आप इसे देख सकते हैं.

  3. 18 December, 2017 01:51:53 AM Meenakshi

    Can we use jaggery instesd of sugar.pls tell its quantity also
    निशा: मिनाक्षी जी, आप इसमें इसी मात्रा के अनुपात में गुड़ जा उपयोग कर सकती हैं.

  4. 30 November, 2017 03:45:14 AM Simran chauhan

    Kya hum alsi ki pinni mein chinni ki jagah gurh or shakar use kar sakte hai ? Agar yes toh Kya Tarika hai ???
    निशा: सिमरन जी, गुड़ या शक्कर कुछ भी यूज किया जा सकता है, गुड़ को मेल्ट करके यूज करें और शक्कर की चाशनी बनाकर यूज किया जा सकता है.

  5. 19 November, 2017 05:09:11 AM INDER PAL

    madam ji kiya chini ki chasni ki jagah khand (boora) bhi dal sakte hai
    निशा: इंद्र जी, उपयोग कर सकते हैं.

  6. 01 October, 2017 07:39:20 AM Sonia

    Nisha jiKya ham alsi ke pinni me gond ke sath kamarkas daal sakte hai ?Mai isme bura dal kar banana chahti hu to ..bura kitna lena hogaPlz reply soon..m waitingThanks
    निशा: सोनिया जी, आप इसमें अपने स्वादानुसार बदलाव कर सकती हैं और गुड़ के बराबर ही बूरा की मात्रा ले लीजिए.

  7. 30 July, 2017 11:05:27 PM chandrashekhar deshmukh

    kya yh dibetic ke liye thik huti hai
    निशा:चंद्रशेखर जी, इसमें गुड़ का य़ूज करके बनायें और कम मात्रा में यूज करें, कम मीठा बनायें, तब ये थोड़ी थोड़ी मात्रा में डायबेटिक्स को दिया जा सकता है.

  8. 17 July, 2017 04:55:47 PM Susheela yadav

    Mam..aapki batai hui receipe bahut acchi hoti hai..mere husband bahut pasand karte jab main kuch naya aapke receipe se banati hu..unhe alsi pinki bahut pasand aaya..thank u so much mam.
    निशा: सुशीला जी, बहुत बहुत धन्यवाद.

  9. 21 May, 2017 12:43:55 PM Simmy

    Last night i did everything according to receipe..but i m not able to make balls from the panjiri...can anybody suggests whats wrong and now what i should do??
    निशा: सिम्मी जी, चाशनी बनाते समय ध्यान रखें कि वह सही बने, चीनी पानी में घुलने के बाद ही चाशनी का टैस्ट कीजिये और 1 तार की चाशनी बना लीजिये, चाशनी ज्यादा होने पर, वह तुरन्त जमने लगेगी और पिन्नी नहीं बन सकेगी, अगर चाशनी में तार नहीं बन रहा हो तो वह जमेगी ही नहीं और पिन्नी नरम रहेगी