कांजी वड़ा -Kanji vada – Kanji Wada – How to make Kanji Vada

Kanji vada

कांजी बड़ा बहुत स्वादिष्ट पेय है, यह पेय पाचन में भी सहायक है. त्योहारों पर मिठाइयां खा कर अगर एसा महसूस हो कि अब कुछ खाने को मन नहीं कर रहा और उस समय कांजी पीने को मिल जाय तो कांजी का स्वाद तो अच्छा लगता है, थोड़ी देर बाद कुछ और खाने की इच्छा भी होने लगती है. वैसे तो कांजी कभी भी बनाई जा सकती है, लेकिन त्योहारों पर कांजी बनायें तो बहुत अच्छा लगेगा. आइये शुरू करे कांजी बड़ा बनाना.

आवश्यक सामग्री -

  • पानी - 2 लीटर (10 गिलास)
  • हींग - 2 -3 पिंच
  • हल्दी पाउडर- 1 छोटी चम्मच
  • लाल मिर्च पाउडर - 1/4-1/2 छोटी चम्मच
  • पीली सरसों - 2 छोटी चम्मच
  • सादा नमक - 1 छोटी चम्मच (स्वादानुसार)
  • काला नमक - 1 छोटी चम्मच (यदि आप चाहें)
  • सरसों का तेल - 1-2 टेबिल स्पून

बड़े के लिये

  • मूंग की दाल - 100 ग्राम (एक छोटी कटोरी)
  • नमक - स्वादानुसार (1/4 छोटी चम्मच)
  • तेल तलने के लिये

कांजी बनाने के लिये

kanji vadeपानी को किसी बर्तन में डालकर उबाल आने तक गरम कर लीजिये. (आरोह वाटर हो तो पानी को उबालने की आवश्यकता नहीं है).

पानी को ठंडा कीजिये, कांच या प्लास्टिक के कन्टेनर में डालिये, पानी में हींग, हल्दी पाउडर, लाल मिर्च पाउडर,पीली सरसों,सरसों का तेल ओर दोंनो नमक डाल कर मिला दीजिये.

कन्टेनर का ढक्कन बन्द करके 3 दिन तक के लिये रख दीजिये

रोजाना 1 बार सूखे और साफ चमचे से चलाना मत भूलिये.

 तीसरे दिन कांजी को टेस्ट कीजिये, कांजी हल्की हल्की खट्टी हो जाती है, हल्की खट्टी कांजी आप पीना चाहें तो पी सकते हैं.  चौथे दिन आप पानी को टेस्ट करेंगे तो पानी का स्वाद एक दम अच्छा  खट्टा और बड़ा ही स्वादिष्ट हो गया है, यानी आपकी कांजी तैयार हो गई है.  अब हमको बड़े बनाने हैं.

बड़े बनाने के लिये

दाल को साफ करके, धोइये और 2 घंटे पानी में भिगो दीजिये.

दाल को पानी से निकालिये और हल्की दरदरी पीस लीजिये.  पिसी हुई दाल को किसी प्याले में निकालिये, ओर नमक मिलाकर अच्छी तरह स्पंजी होने तक फैट लीजिये.

कढ़ाई में तेल डाल कर गरम कीजिये, और हाथ से छोटी छोटी बड़ीयां जैसी तेल में बनाकर डालिये, 8-10 बड़ियां एक साथ कढ़ाई में डाल दीजिये. ये बडियां तेल में फूलकर गोल हो जाती हैं,  इन्हैं पलट पलट कर हल्का ब्राउन होने तक तल कर किसी प्लेट में निकाल कर रख लीजिये.  सारी बड़ियां तल कर तैयार कर लीजिये.

वड़ों को गुनगुने पानी में पन्द्रह मिनट के लिये भिगो दीजीये. पन्द्रह मिनट बाद इन्हें पानी से निकाल कर, हाथों से हल्का सा दबा कर अतिरिक्त पानी निकाल दीजिये.

एक गिलास में 4-5 वड़े डाल कर कांजी भर दीजिये, स्वादिष्ट कांजी वड़ा परोसिये और पीजिये.

अगर आप वड़े नहीं बना सके है, तो कोई बात नहीं कांजी के गिलास में रायते वाली बूंदी डाल कर सर्व कर सकते है.

यदि आपके पास पीली सरसों उपलब्ध न हो तो पीली सरसों के स्थान पर काली सरसों या राई का भी प्रयोग किया जा सकता है.

Categories:
recipe

इस रेसिपी के बारे में सवाल पूछिए.

क्या आपके मन में इस रेसिपी से जुडा़ कोई सवाल है? आप Nishamadhulika.com पर आने वाले लोगों से उसे पूछ सकते हैं : यहाँ क्लिक करें.

Related Questions

Comment(s): 64:

  • on 25 July, 2008 02:37:21 AM
    हमने पंगा नरेश- पंगेबाज अरुण जी के यहाँ गाजर की कांजी पी थी इस बार...जरा उसकी रेसिपि भी बताई जाये. बड़ा आनन्द आया था. :)
  • on 26 July, 2008 14:19:45 PM
    Nisha JI isme bada banane k liye konsi dal ka use kiya hai.
  • on 27 July, 2008 00:51:40 AM
    प्रियंका, इसमें मूंग की दाल का या मूंग उड़द की मिक्स दाल (आधी आधी) का प्रयोग कर सकते हैं.
  • on 08 August, 2008 18:26:52 PM
    hello nishaji,
    do we need to put the glass container in sun or just inside the house for the kanji?
    i have never made kanji before but do remember the taste from jodhpur.
    thanks
  • on 09 August, 2008 03:32:05 AM
    जयाजी, अगर आप कांजी के कन्टेनर को धूप में रखकर कांजी बनाती हैं तो और भी अच्छा है, वैसे ये कमरे के अन्दर भी बन जाती है.
  • on 10 August, 2008 04:15:57 AM
    nisaji,bada banane k liye moth ki dal ka or tasti banega
  • on 06 October, 2008 18:40:58 PM
    is there any oter recepie of Anarsa made by Banana?
  • on 21 February, 2009 22:23:33 PM
    kaju shek aur badam shek recipe batayen.
  • on 09 March, 2009 04:48:24 AM
    Nisha ji,
    maine is holi pe pahli baar kanji banayi hai..yaha canada mai dhoop jyada nahi hoti iisliye ghar pe hi rakhi 4 din,lekin meri kanji mei sarso neeche baith gayi hia..aapki kanji aur jo maine india mai pee thi.usme to sarso bade ke saath tairati hai....aisa kyo hua...???

    निशा: निधि, सरसों अधिक मोटी पिसी होने के कारण्, भारी होने की बजह से नीचे रह सकती है.
  • on 03 April, 2009 18:53:49 PM
    nishaji,
    i made kanji for the first time and it turned out great. thanks so much.you have so many choices for cooking without onion garlic like my household.
    feels like i am learning cooking all over
    again.
    thanks a ton
  • on 25 April, 2009 13:44:06 PM
    nisha ji kya hum try karne ke liye kaanji ko glass ki bottel mein bana sakte hai?
    निशा: जी अवश्य बनाइये.
  • on 01 May, 2009 11:03:45 AM
    Mujhe Apki Website bahut achi lagi. Iski Madad se main job ke sath sath thora time nikarlkar kuch acha bana sakti hoon. Mere ghar main sabko bahoot pasand aata hai. kya aap mujhe sambar vada banana bata sakte ho ?
    Thanks a lot for delicious recipies to cook in a very easy way. Thanks
    POOJA
  • on 04 May, 2009 11:26:36 AM
    nishaji humne aapki batayii hui kanji usi tarah banayi jaise likhe hui thi lekin wo bilkul bhi achi nahi bani dhoop mai rakhne ka fayada bhi nhai hua.......aap batayen kyon????

    निशा: बीनाजी,पानी उबालने के बाद उसे ठंडा कीजिये,मसाले डालिये, अचार बनाते समय सफाई का ध्यान ज्यादा रखिये.
  • on 11 May, 2009 17:28:23 PM
    nisha ji aapne bahut saare pay hume sikhaye par mujhe sabse pramukh pay jo ki shikanji hai uski vidhi kahi nhi mili kya aap hume shikanji banana sikha sakti hai? simply vali k alawa,matlab sugar,lemon vaali k alawa
  • on 13 September, 2009 10:02:41 AM
    dear Nisha, aapkee wesite bahut kaam kee hai,
    one suggestion, by using sarson ka tel in kanji wada, paani mein azeeb see mehak ho gayee, bina tel ke jyada achchha bana tha, tel jarooree hai kyaa?
    निशा: प्रेरणा, अगर आपको कांजी बिना तेल डाले अच्छी लगती है तो आप बिना तेल के कांजी बनाइये, सरसों का तेल आवश्यक नहीं है.
  • on 28 November, 2009 01:38:46 AM
    hello nishaji.kya hum yellow sarso k jagah common sarso use kr sakte h?
    निशा; पूजा, आप कोई भी सरसों प्रयोग कर सकती हैं.
  • on 24 December, 2009 01:45:57 AM
    nisha ji hamne kanji bnayi or usme se smell aane lagi yani ki vo khrab ho gyi aisa kyo hua.
  • on 23 January, 2010 09:10:14 AM
    निशामधुलिका जी , कांजी बडा की विधि एवं सामग्री देख के मुझे "पानी वाले अचार "की याद आ गयी
    , फर्क सिर्फ इतना था की उसमे वडा की जगह उबली हुई सब्जिया (फूल गोभी ,गाजर, मूली, सेम की फली ) आदि पड़ती थी.
    क्या आप हमें अपने अचार section में "पानी वाला अचार बतायेंगी"? आपकी अति आभारी रहूंगी .
  • on 21 February, 2010 07:07:16 AM
    nisha ji u are so sweet and your recipes are veary nice.thank u so much & take care.
  • on 24 February, 2010 05:39:25 AM
    Thanx allot for this kaanjiwada
  • on 28 February, 2010 01:10:51 AM
    nisha, i have seen first time your websit,very informative,apealling.In kanjivada i can use rai or not?

    HAPPY HOLI TO YOU AND YOUR WEBSITE VISITORS
    निशा: अम्रता, राई डाली जा सकती है.
  • on 02 March, 2010 23:22:20 PM
    nisha ji mane 2 bar kanji bnayi or dono bar khrab ho gyi kya karan ho sakta hai.plz bataye
  • on 01 April, 2010 21:05:48 PM
    Nisha, I am so thankful for your website. I tried many recipes and they all came out great. Specially all the recipe came out the way my dadi used to cook food. Thanks again for taking me back to those precious moments.
  • on 07 July, 2010 01:46:09 AM
    thanks a lot for sharing these lovely secret. your recipies are easy to follow and turn out as wonders. again thanks for that , i have a quick question for you is sarso u used in this kanji is whole or crushed. m waiting for reply with my ingredients ready to go.
  • on 13 July, 2010 04:16:17 AM
    kya ye pene me acha lagaga:)..... :(
  • on 07 August, 2010 11:35:54 AM
    Nisha ji, hum toh kanji purple carrots ki banate hai jo ki special kanji ke liye hi milti hai aur usme beetroot bhi dalte hai
    I mean unko chota chota kat ke ume kala namak, white namak aur रायी ko bade sare pani mein dal kar 3 se 4 din ke liye rakh dete hai woh jyada aachi banti hai
  • on 22 August, 2010 15:53:21 PM
    Hi nishaji aapki yeh receipe bahut acchhi hai.muh me paani aa gaya.hum to sadawala sarso use kartethe but thanks for your suggestion of pili sarso.thanks a lot take care
  • on 23 August, 2010 06:30:17 AM
    can we prepare kanji in 24 hrs.as there is rakhi festival tomorrow we have only 24 hrs time
    thanx

    kala bhargava
  • on 08 September, 2010 12:26:04 PM
    nisha ji..pls pls pls ap hamein pizza banana bhi sikhaiye pls..
  • on 15 March, 2011 10:10:45 AM
    sarso ka phool kahan se layen
    • kk
      on 17 January, 2013 22:04:28 PM
      its yellow sarso seed not phool:)
  • on 17 March, 2011 14:32:01 PM
    Nishaji peeli sarso ki jagah raai pees kar dalde tho kaisa rahega please batayiye

    निशा: कावेरी आप सरसों की जगह राई भी प्रयोग कर सकतीं हैं.
  • on 17 March, 2011 15:22:26 PM
    nisha ji ,peeli sarson na mile to kaali sarson se kanji banjaayegi?
    zaroor batayega.

    निशा:
    अरुना, आप पीलीसरसों की जगह काली सरसों भी प्रयोग कर सकतीं हैं
  • on 24 March, 2011 15:05:46 PM
    nisha ji maine kanji banai par vo khati nahi hui. aur usmain gandi badboo ane lagi. maine kya galti ki.

    निशा: दीपिका, पानी को उबाल कर प्रयोग में लाइये. कांजी को चलाते समय सूखा चमचा स्तेमाल कीजिये. इस तरह के पेय और अचार को बहुत सफाइ से स्तेमाल करना होता है. थोड़ा ध्यान रखते हुये आप फिर से कांजी बनाइये, आप अच्छी कांजी बना लेंगी.
    • on 09 June, 2013 07:12:55 AM
      maine pani pura boil kar kuse kiya and safai/ sukha spoon use kiya fir bhi..... :( निशा: निधि, जी बिलकुल आप सही कह रही हैं, गर्मी के मौसम में चोथे दिन खराब होने लगती है, आपको हमने पूरा रिप्लाई नीचे सवाल में दिया हैं, धन्यवाद.
  • on 03 April, 2011 08:17:06 AM
    nisha ji kya kanji ko air tight dibbe me nahi rakhte.kya dibbe ka dhakan khol kar banate hai.

    निशा:
    दीपिका, इसके लिये एयरटाइट कन्टेनर की जरूरत नहीं है. कांजी के लिये कोई भी बडे मुंह बाला कन्टेनर ले लीजिये. पहले तो इसे मिट्टी के मटके में बनाया करते थे. कांच का कन्टेनर ज्यादा अच्छा रहता है.
  • on 02 July, 2011 18:05:13 PM
    nisha mam,aapki ye dish bahut mast bani..thx
  • on 04 July, 2011 13:05:06 PM
    choti chammach ka kya mtlb h, kitni hldi dale.

    निशा: सोनिया, छोटी चम्मच मीन्स दाल चावल खाने वाली चम्मच होती है.
  • on 15 July, 2011 12:21:53 PM
    Nishaji Kya vade moong ki aur chane ki dal barabar mix karke bhi bana sakte hai?plz reply..

    निशा: विधु, जी हां बना सकते हैं.
  • on 25 August, 2011 23:36:38 PM
    hello nisha ji, nisha ji kya hum chhoti wali jo balck rai hoti hai (bahoot chhoti)use kr sakte hai? bahot pahle maine koshish ki thi to o kadvi ho gai thi .plz reply.

    निशा: चिया, राई किसी भी तरह की प्रयोग में लाइ जा सकती है, आप फिर से कम मात्रा में बना कर देखिये, आप अच्छा बना पायेंगी.
  • on 04 March, 2012 09:54:08 AM
    i m bachlar, and this site is very very very very good for me. this is simple n unique.
    thanks a lot.
  • on 05 March, 2012 16:02:15 PM
    Mam, why you have mentioned mustard oil in ingridents while not using in your recipe.
    • on 19 October, 2013 01:43:30 AM
      Praveen ji..Nishaji also used mustard oil while preparing dis receipe..if any doubt watch out dis receipe video..
  • on 13 March, 2012 16:35:10 PM
    Hiiii... Nisha ji....maine aapki lgbhg sabhi recipes try kiye h great and banane me bhi bhut easy h kya aap pls kaju corn curry ki recipe btayegi pls pls pls
  • on 19 March, 2012 11:46:43 AM
    nisha ji , kya aap chhach ki recipe bta sakti hai .... thnxs.

    निशा: वीना, दही में पानी डालकर मथ लीजिये, छाछ तैयार है.
  • on 19 December, 2012 17:09:46 PM
    kya hm bde mung nd udhd ki dal mix kr k bna skte h.riply plzz

    निशा: सन्तोष, जी हां कर सकते हैं.
  • on 22 December, 2012 14:14:28 PM
    निशाजी इसमें राइ या सरसों साबुत पड़ती है या पीसी हुई ?
    निशा: तुषार, राई या सरसों पीस कर डाली जाती है.
    • on 26 December, 2012 15:52:02 PM
      oh maine to sabut hee daal di ... :( ab pata nahi rai banegi ke nahi ...... निशा: तुषार, उसमें अभी आप पिसी हुई राई और डाल दीजिये.
      • on 13 January, 2013 14:29:39 PM
        निशाजी जैसे आपने बताया था वैसे ही कांजी डाली पर आज तक वो कांजी नहीं हुई | बिलकुल भी चढ़ी नहीं न खट्टी हुई | पता नहीं ऐसा क्यों ? प्लस कुछ उपाय बताएं | निशा: तुषार, कांजी 3 दिन में खट्टी हो जाती है. पानी उबाल कर लीजिये, और मसाले सरसो या राई कुछ भी अवश्य डालिए, कांजी अवश्य खट्टी होगी.
  • on 18 March, 2013 12:33:23 PM
    Nisha ji, iss kanjhi ko kitne din baad tak use kar sakte hei
  • on 26 March, 2013 12:13:32 PM
    dhnayavad batane ke liye
  • on 26 March, 2013 13:06:56 PM
    Nisha ji, hum to ase kanjhi nahi banate hai ubal kar. meri nani hamesh saade pani me kali gajar chhilkar dalti thi aur swadanuasaar salt aur rai piskar dalti thi. wasi hi hum bante aur wo to bhut hi testy banti hai. Ubalkar aur haldi dalkar to sirf apki receipe me read kiya hai. ha mirch dal sakte jab kanji tyar ho jay. Ye hai rajasthani kanji. Ok
  • on 09 June, 2013 07:09:52 AM
    hii nisha ji,
    mujhe apki is site k baare mai abhi kuch din pahle hi pata chala.. tab se maine apki kai dishes try ki h.. sab bot achi bani. thanx..
    lekin kanji wada jo ki mujhe bot pasand hai, maine try kiya lekin 3rd day ko mujhe to pani swad bilkul change laga jaise kharab ho gya ho... maine pahle bhi 1 baar ye banaye the tb bhi yahi problem thi..
    ye kaise thik banege
    reply me..
    thanx..

    निशा: निधि, कांजी को सर्दी के मौसम में बना कर पीते हैं, सर्दी के दिनों में कांजी 3-4 दिन में तैयार होती है और 8-10 दिन तक यूज कर सकते हैं, लेकिन अभी गर्मी बहुत तेज हो रही है, और गर्मी के मौसम में कांजी दूसरे दिन ही यानि कि 24 घंटे में बहुत अच्छी खट्टी होकर तैयार हो जाती है, खट्टी होने के बाद आप इसे फ्रिज में रखकर एक सप्ताह तक यूज कीजिये. कांजी में वड़े आप ताजे भिगो कर डालेंगी तो कांजी वड़ा बहुत अच्छे लगेगें, प्लीज आप बनाइये, कांजी अच्छी बनेगी.
    • on 10 June, 2013 07:16:24 AM
      reply plz nisha ji..
  • on 05 July, 2013 02:06:52 AM
    Nisha ji, you didnt mentioned when to use oil in kanji preperation....kindly let me know the same.

    thanks
    निशा: गुन्जन सारे मसाले के साथ ही सरसों का तेल मिलाया है, धन्यवाद.
  • on 16 October, 2013 23:05:56 PM
    dear nishaji,gud mrng..plz reply of my query...kya hm ye vada bina kari pata,ginger..etc.daale kanji vada bnane mein use kr skte h,wo isliye k mjhe kanji banate samay ye shape chahiye jo hm sambhar vada mein use lete h...plz nishaji plz tell me ye shape kanji mein use lene k liye kya krna chahiye...reply soon plz..m waiting
    निशा: अनु, आप ये मसाले डाल सकती हैं और अपनी पसन्द के शेप के बड़े भी बना सकती हैं, सांबर वड़े की शेप बनाने के लिये सांबर वड़े रैसिपी को देखा जा सकता है.
  • on 10 March, 2014 02:32:11 AM
    mam, kanji ke pani ko dhoop mein rakhna jaruri hai kya?
    निशा: शुचि, काजी का पानी आप किचन में अन्दर रखकर भी बना सकती हैं.
  • on 13 March, 2014 01:08:35 AM
    mam plzzzzzz vada pav receipe share kr do in hindi...plzzzz
  • on 13 March, 2014 10:07:06 AM
    Kanji ko ek din nahi bnaya ja skta or isme sarso piske dalte han ya sabut please mam mujheh bataiye thank u
  • on 14 March, 2014 20:18:39 PM
    thank you for your reply mam
  • on 08 April, 2014 07:46:24 AM
    निशाजी,
    क्या इसमें सरसो के तेल की जगह और कोई वनस्पती तेल प्रयोग किया जा सकता है ?
  • on 03 May, 2014 02:51:54 AM
    Nisha ji kya vade me soda use kr skte h????
  • on 31 May, 2014 03:17:23 AM
    Ur kanji vada recipes I ll realy realy thank full to ...that was very ausome recipe...
    निशा: भूनिका जी, बहुत बहुत धन्यवाद.
  • on 13 July, 2014 22:19:41 PM
    Nishaji, apne video me RO water liya hai uska kya matlab hai? Plz reply.
    निशा: वैशाली,RO waterमीन्स प्यूरीफाई वाटर. पानी को उबाल कर लिया जा सकता है.

Submit your question

Log in

Become a member free and get access to advanced features.

Latest Recipes

More Recipes >>