Punjabi Recipes

Punjabi Recipes | Punjabi Recipes in Hindi

छोले मसाला से एकदम भिन्न पिन्डी चना, देखते ही मुंह में पानी आ जाए. ये चने चावल, परांठे, नान, पूरी, चपाती या किसी के साथ भी भोजन में अनूठा स्वाद ले आए.

हरी सब्जियां खाने से बच्चे अक्सर कतराते हैं. ऎसे में इनकी पौष्टिकता बच्चों को प्रदान करने के लिए हरी सब्जियों से बने परांठे एक अच्छा विकल्प है. आज हम पालक के परांठे बनाएंगे, जिन्हें आप दही, रायते,

देशी मसाले और उबले हुये आलू की पिट्ठी मिलाकर गुंथे हुये गेहूं के आटे से बनी आलू पूरी चाहे तो सब्जी के साथ परोसिये, चाहे यूंही चाय के साथ स्नैक के रूप में खाईये. इसे त्यौहार पर तो बना ही सकते हैं,

गाढे़ मलाईदार दही में चीनी के साथ पके हुये अनन्नास के पल्प और टुकड़ों को मिलाकर बनाया हुआ अनन्नास का खट्टा मीठा रायता साइड डिश के रूप में भी परोसा जा सकता है और खाने के बाद स्वीट डिश के रूप में भी.

टमाटर की ग्रेवी में मुलायम मटर और पनीर मिलाकर बनी मटर पनीर किसे पसन्द नहीं आती ! इसे क्रीम मिलाकर रिच ग्रेवी में भी बना सकते हैं और सिर्फ टमाटर की ग्रेवी में भी. प्रस्तुत है ढाबा स्टायल मटर पनीर

मक्के के आटे से हम रोटी, परांठा, हलवा, उपमा, महेरी, पिन्नी तो बनाते ही हैं, मक्के के आटे से बनी मसाला पूरी एकदम मुलायम लेकिन खस्ता होतीं है. मक्के की गर्मागर्म पूरियां किसी भी सब्जी, दही और अचार के

उड़द दाल तड़का अधिकतर उत्तर भारत में बनाई जाती है. साबुत मसालों को ताजा कूट कर बनाई उरद दाल, हींग और साबुत लाल मिर्च के तड़के के साथ खासकर उत्तर भारत के ढाबे की बहुतायत में परोसी जाती है.

मक्के के मोटे आटे से बनी मक्की की गर्म गर्म मोटी मोटी रोटी, सरसों के पत्तों के साथ थोड़े से पालक, बथुआ मैथी वगैरह के पत्तों को बारीक काटकर बना साग और सर्दी के दिन, इन्हें देशी घी और गुड़ के साथ

पंजाब और राजस्थान में बनाई जाने वाली खास मक्की के आटे, गोंद और सूखे मेवे को मिलाकर बनाई जाने वाली मक्की की पिन्नी बना रहे हैं. इसे बनाना जितना आसान है, इसका स्वाद उतना ही लाज़बाव.

सर्दियों की आहट के साथ ही बाजार में हरे पत्ते वाली सब्जियों की भरमार हो जाती है. आज हम इन्ही हरे पत्ते वाली सब्जियों के साथ हल्का भुना हुआ पनीर मिला कर साग पनीर की सब्जी बना रहे हैं जो पंजाब और

देशी मसालों के साथ बनी खस्ता कुरकुरी पंजाबी मसाला मठरी स्वाद में बहुत ही लाजवाब होती हैं. हम इन्हें किसी भी त्यौहार पर भी बना सकते हैं.

तिल के व्यंजन सर्दी के मौसम में बनाकर खाये जाते हैं. तासीर में गर्म तिल और गेहूं के आटे से बने लड्डू बहुत ही स्वादिष्ट होते हैं. बड़ी आसानी से और बहुत जल्द बन जाते है.

अंजीर कोफ्ता करी खास अवसर पर बनाई जाने वाली पारंपरिक पंजाबी करी है. अंजीर से स्टफ किये हुये पनीर - आलू के मुलायम कोफ्ते आप सभी को बेहद पसंद आयेंगे.

सुबह के नाश्ते या शाम के खाने में मसालेदार थेपला अभी को पसंद आते हैं. कुनकुने मौसम में बाजरा थेपला का कोई जबाब नहीं. ये बहुत स्वादिष्ट होतें हैं, और पौष्टिक भी.

जब भी आपको तुरत फुरत भटूरे बनाने हों और बेकिंग सोडा या यीस्ट डालकर आटा फुलाने का समय न हो तो फिर एसे में आलू को मैदा में मिलाकर आलू भटूरे (Aloo Bhatura) बनाईये, आपके और आपके परिवार को बेहद पसंद

त्यौहार हों या कोई विशेष अवसर, हर मौके पर मिठाई तो जरूरी ही है. जब भी कभी मिठाई बनाना हो तो बस घर में मौजूद बेसन घी, सूखे मेवाऔर चीनी से तुरत फुरत बेसन की बर्फी बना डालिये.

यदि आपको करेले की अधिक कड़वाहट के कारण करेला पसन्द नहीं आते हों, तो उबाल कर बने करेले अवश्य पसंद आयेंगे. क्योंकि यह अधिक कड़वे नहीं होते एवं दही और पोस्त इन्हें एक स्वादिष्ट स्वाद और फ्लेवर देते

कुलचे आलू, पनीर भर कर भी बना सकते हैं या जब कुछ हल्का खाने का मन हो तो बिना कुछ भरे हुये नरम गरम प्लेन कुलचे खाने का मज़ा जो खाये वही जाने